Heart Touching Lines in Hindi

Heart Touching Lines 

इस पोस्ट में जीवन व प्रेम पर हृदय को छू लेने वाली पंक्तियों का संकलन है, जिन्हें पढ़कर आप वास्तव में आनन्द महसूस करेंगे। तो फिर वे Heart touching lines इस प्रकार हैं:
कि, खुशबु हमारे हाथ को छूकर गुज़र गई।
हम फ़ूल सबको बांट के पत्थर के हो गए।।
Life shayari

मियां ! वे दिन गए ; अब ये हिमाकत कौन करता है।
क्या कहते हैं उसको ? हां मोहब्बत कौन करता है।।
कोई जन्नत का तालिब है, कोई ग़म से परेशां है।
गरज सजदे कराती है, इबादत कौन करता है।।

अपने चेहरे से जो ज़ाहिर है छुपाएं कैसे।
तेरी मर्ज़ी के मुताबिक़ नज़र आएं कैसे।।
झुकी हुई पलकों में मेरा ख्वाब सजाए बैठे हो।
दबी हुई हंसी में मेरा ख्याल सजाए बैठे हो।।
किन्हीं ख्यालों को आंखों में सजाए बैठे हो।
मेरा नाम लबों पर लेकर मुस्कुराए बैठे हो।।
कभी जब गौर से देखोगे तो इतना जान जाओगे,
कि तुम्हारे बिन हर लम्हा हमारी जान लेता है।
जो रिश्ते खामोश हैं, उनके लिए शोर नहीं करते हैं।
बहुत लड़ लिए, अब खुद को कमजोर नहीं करते हैं।।
ज़िन्दगी ले जाएगी सबको अपनी मंजिल पे।
जिन राहों को कब का छोड़ दिए, 
अब उस ओर नहीं चलते हैं।।
इक रात वो गया था जहां बात रोक के;
अब तक रुका हुआ हूं वहीं रात रोक के।
तेरे दर पर रोज आने का मन करता है।
तुझे देखकर मुस्कुराने का मन करता है।।
तूं भी समझेगी एक दिन मेरी मोहब्बत को।
तुझे पर सब कुछ लुटाने का मन करता है।।
होने थे जितने खेल मुकद्दर के हो गए।
हम टूटी नाव लेकर समंदर के हो गए।।
जब एहसास कोई चेहरा हो जाता है।
मंजर मंजर आईना हो जाता है।।
और माली चाहे कितना भी चौकन्ना हो।
फूल और तितली में रिश्ता हो जाता है।।
इनमें अक्सर उम्मीदों की फसलें उगती देखी हैं।
ख़्वाबों को बंजर आंखों में बोया भी जा सकता है।।

तुम पूछो और मैं न बताऊँ, ऐसे तो मेरे हालात नहीं।
एक ज़रा सा दिल टूटा है, और तो कोई बात नहीं।।
ख़ुद का इतना दुनियादार नहीं कर सकते।
आधे दिल से पूरा प्यार नहीं कर सकते।।
नहीं कोई मेरे दर्द का शरीक ;
मैंने अपने आंसू " खुद पोंछे हैं।
और क्या देखने को बाक़ी है ?
आप से दिल लगा के देख लिया !
माना कि तेरी प्यार के क़ाबिल नहीं हूं मैं;
फिर भी तू मेरा शौक़ देख, मेरा इंतज़ार देख !
तुम अगर नहीं आयीं, गीत गा ना पाऊंगा।
साँस साथ छोड़ेगी, सुर सजा ना पाऊँगा।।
हो भले मद्धम मगर एक रोशनी मालूम हो।
जब कहीं हो आदमी तो आदमी मालूम हो।।
बैठा है क्यों उदास वो दिलबर की याद में ?
मुझसे तो कह रहा था मोहब्बत फ़िज़ूल है।।
अब ख़ुशी है न कोई दर्द रुलाने वाला। 
हमने भी अपना लिया हर रंग ज़माने वाला।।
ये पहला इश्क़ है तुम्हारा सोच लो !
मेरे लिए तो ये रास्ता नया नहीं ।
चाहा मगर गले से लगाया न जा सका,
इतना वो गिर गया कि उठाया न जा सका।
होंठों पे आ न पाया तो आंखों में नम हुआ,
मैं इश्क़ था किसी से छुपाया न जा सका।।
मन्ज़र पे मुझको आने में कुछ देर तो लगी,
लेकिन जब आ गया तो हटाया न जा सका।।
मैं उसके छूने से अच्छा हुआ, बताता किसे ?
सभी ने पूछा था मुझसे दवा के बारे में !
इस नदी की धार से ठंडी हवा आती तो है।
नाव जर्जर ही सही लहरों से टकराती तो है।।
मसअला ये नहीं कि इश्क़ हुआ है हमको।
मसअला ये है कि इज़हार किया जाना है।।
बेड़ियां बंधी हैं जिस्म पर, परिंदें नोच खा रहे हैं,
देख तेरे विरह में ये कैसे ख्वाब आ रहे हैं..!!
दुखते है ज़ख्म दिल के इसलिए कम लिखते हैं,
मोहबब्त लिखे जमाना हुआ अब सिर्फ़ गम लिखते हैं!
उसपर दीवाना होना सिर्फ मेरी खता नहीं यारों!
कुछ कुसूर तो उसकी सादगी भरी सूरत का भी है।
कमजोरियां मत खोज मुझ में ऐ दोस्त,
एक तू भी शामिल हैं मेरी कमजोरियों में...!!
अब तेरी शिकायत किससे करें,
हर सख्श से कहा था तुझसे बेहतर कोई नहीं.!

खामोश रहे तो हर पल सताए जाओगे,
आवाज उठाई तो गद्दार बताए जाओगे।
खबरों की मंडी में सफेद झूठ बिकता है,
सच्चाई खोजने निकले तो दबाए जाओगे।।
कठिन है यहां किसी को अपनी पीड़ा समझाना।
दर्द उठे तो, सूने पथ पर पाँव बढ़ाना, चलते जाना।।
चेहरे पर एक चेहरा और लगाना पड़ता है..
मैं ठीक हूं, ऐसा कहकर मुस्कुराना पड़ता है..!!